Sunday, February 3, 2013




जो राहों से प्यार ना करते, केवल मंज़िल को ही तकते,
तुम ये अच्छी तरह समझ लो वो ही राहों से हैं भटके.

....सुशील मिश्र.
  03/02/2013

Post a Comment